• img-book

    Chirag Gupta

ISBN: "978-93-88427-72-2"
Category:

Chirag Ki Pari

by: Chirag Gupta
Spread the love

205.00

49 in stock

Quantity:
Books of Chirag Gupta
Add to cart
My Angel 2019
Add to cart
About This Book
    Spread the love

    ये प्यारी कविता उस “परी ” के लिए जो हमेशा मेरे पास रहेगी…और उन् सभी के लिए भी जो एक दूसरे से जुड़े हैं बंधे है और उन्हें कभी खोना नहीं चाहते …

    थोड़ा पागल हूँ , नासमझ भी , नादान भी हूँ पर नादानी नहीं करता , बदमाशियों ने तो आज इतना बड़ा किया है “मुश्किलें जो है ना ऑटो और रिक्शा की तरह आती जाती है …”पर अपने साथ कुछ यादें छोड़ जाती है . बस ! अब अपने बारे में क्या बोलू , जैसा भी हूँ पन्नो में हूँ , शब्दें बिखरी पड़ी है उसे ही बटोरने में लगा हूँ …

  • Details
  • Meet the Author
  • Reviews(0)
Details

ISBN: "978-93-88427-72-2"
Publisher: BlueRose Publishers
Publish Date: 2018
Page Count: 78

Meet the Author

Additional information

Weight 0.250 kg
Dimensions 21 x 12 x 2 cm

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

There are no reviews yet.