• img-book

    Aakansha Saxena

ISBN: 9789354728822

Kalam Parichay

by: Aakansha Saxena

“कलम परिच” में चालीस कविताएँ हैं। हर एक कविता अपना अलग रंग बिखेर रही हौ। इस पपुस्तक में सामाजिक मुद्दे पर, आत्म प्रेम पर और प्रेरिक कविताएँ उपलब्ध हैं जो अत्यंत रोचक और मन की गहराइयों तक पहुँचने वाली हैं। कविताएँ सरल भाषा मे लिखी हैं जिनको पाठक आसानी से पढ़ सकते हैं। कविताओं को पढ़ कर आपको सकरात्मक अनुभूति होगी। इन कविताओं में मैं यह कहना छाती हूँ की अगर लोगो में अत्मविश्वश है और वे अपनी समस्याओं का सामना करते है तो वे निश्चित रूप से सफल होंगे। आत्म प्रेम की कविताओं में मैं यह कहना चाहती हूँ की लोगो को खुद के साथ समय बिताना चाहिए और अपनी गलतियों को पहचान कर उन्हें सुधारने का प्रयास करना चाहिए ताकि आगे बढ़ने में कठिनाईयों का सामना न करना पड़े।

125.00

500 in stock

Quantity:
Books of Aakansha Saxena
About This Book

    “कलम परिच” में चालीस कविताएँ हैं। हर एक कविता अपना अलग रंग बिखेर रही हौ। इस पपुस्तक में सामाजिक मुद्दे पर, आत्म प्रेम पर और प्रेरिक कविताएँ उपलब्ध हैं जो अत्यंत रोचक और मन की गहराइयों तक पहुँचने वाली हैं। कविताएँ सरल भाषा मे लिखी हैं जिनको पाठक आसानी से पढ़ सकते हैं। कविताओं को […]

  • Details
  • Meet the Author
  • Reviews(0)
Details

ISBN: 9789354728822
SKU: WB6881
Publisher: BlueRose Publishers
Publish Date: 2021
Page Count: 81

Meet the Author
Blue rose author
मैं आकांक्षा सक्सेना, उत्तर प्रदेश ग्राम कुस्मोरी जिला लखीमपुर खीरी में रहती हूँ। जब मैं ग्यारह साल की थी मेरी माँ पंचतत्व में विलीन हो गई। माँ के जाने के बाद मेरी और बहन की परवरिश दादी माँ कर रहीं हैं। मैं इस समय चौदह वर्ष की हूँ । मैं सेंट जॉन्स स्कूल, गोल गोकरन नाथ में दसवी कक्षा में पढ़ती हूँ। मेरे पिता जी पेशे से एक वकील हैं और मेरे दादा जी जमींदार हैं। पाँच साल की छोटी सी उम्र में मेरे मन कविता लिखने की जिज्ञासा उत्पन हुई। मैने अखबार पर एक छोटी सी कविता लिखी। मेरी पहली कविता कुछ इस प्रकार थी - "अखबार आया, अखबार आया। नई- नई खबरे लाया। जल्दी से उठो- उठो अखबार पढ़ो। पत्रकार ने ऐसा अखबार बनाया, जिसने सबके मैं को भाया। आखिरी की दो पंक्तियों मे मुझे मेरी दादी जी का सहयोग मिल। उसके बाद मेरे मन में विचार आते गए और मैं लिखती चली गई। मैं अधिकतर आत्म प्रेम पर, सामाजिक मुद्दो पर, जिंदगी पर और प्रेरिक कविताओं लिखती हूँ। "और भी हैं " कविता श्रीबालकृष्ण राव के द्वारा लिखी गई हैं , जिनकी कविताओं को पढ़ कर मुझे बहुत बड़ी प्रेरणा आगे बढ़ने की मिली है। मेरे परिवार और मेरे मित्रो का मुझे आगे बढ़ने में बहुत सहयोग रहा। तो दोस्तों यह थी मेरी छोटी सी ज़िंदगी में हुए किस्सों से परिपूर्ण एक आत्मकथा। आशा है आपको यह पसन्द आई होगी धन्यवाद आपकी आकांक्षा

Additional information

Weight 0.12 kg
Dimensions 20.32 x 12.7 x 2.5 cm

“Kalam Parichay”

There are no reviews yet.