• img-book

    Abhishek shukla

ISBN: 978-93-5427-130-4
SKU: 5081 Category: Tags: ,

Shwet Prishtha

by: Abhishek shukla

बहुत दूर और बहुत देर तक चलने के बाद पता चलता है कि हम चल क्यों रहे हैं । वास्तव में हम अपनी एक ऐसी दुनिया की तलाश में होते हैं जो इस दुनिया से कम से कम रत्ती भर तो बेहतर हो । यह किताब किसी ऐसी ही दुनिया में जाने का एक रास्ता है । एक ऐसा रास्ता जो सफर भर में हमें यह बताता जाता है कि हम अपने आपकी ओर आहिस्ता आहिस्ता बढ़ रहे हैं । “श्वेत पृष्ठ” समाज के अंतर्द्वंदों, विरोधाभाषों और आडंबरों पर जहां एक ओर गहरी चोट करती है वहीं दूसरी तरफ़ प्रकृति से जुड़ाव को सफलता का मूल मंत्र बताते व एक नई दुनिया की सैर कराते हुए समाज में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करती है ।

-राष्ट्रीय सहारा

“श्वेत पृष्ठ के कवि का आत्मदाह से प्रकाश उपजाने का उनका संकल्प उनकी रचनाओं को धारदार बना देता है । अभिषेक की कविताएं सद्भावनाओं पर शब्द और भावों के हथौड़े से निरंतर चोट करती हुई दिखती है । रूढियां चाहे देश, समाज, जाति, धर्म, ऊंच नीच, भाषा भाव अथवा लिपि ही क्यों न हों कवि उनका पक्षधर न होकर सच्चे मानव मूल्यों के बंद दरवाज़ों और गवाक्षों को खोलता है । युवा कवि अपने भावुक मन और अपने तरल सरल शब्दों की योजना से पाठक को पूरी मार्मिकता के साथ सोचने के लिए विवश कर देता है ।”

-योगेंद्र मणि त्रिपाठी

ईमेल: shuklaabhishek0057@gmail.com

159.00

500 in stock

Quantity:
Books of Abhishek shukla
About This Book

    बहुत दूर और बहुत देर तक चलने के बाद पता चलता है कि हम चल क्यों रहे हैं । वास्तव में हम अपनी एक ऐसी दुनिया की तलाश में होते हैं जो इस दुनिया से कम से कम रत्ती भर तो बेहतर हो । यह किताब किसी ऐसी ही दुनिया में जाने का एक रास्ता […]

  • Details
  • Meet the Author
  • Reviews(0)
Details

ISBN: 978-93-5427-130-4
SKU: 5081
Publisher: BlueRose Publishers
Publish Date: 2020
Page Count: 124

Meet the Author

Additional information

Weight 0.250 kg
Dimensions 22.5 x 12.5 x 2.5 cm

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

There are no reviews yet.