Author avatar
Rahul singh Gautam

किसी लेखक का परिचय उसकी लेखनी से बेहतर और कोई नहीं करा सकता और अपने परिचय का भी मैंने यही मापदंड रखा है। इस विस्तृत एवं अथाह साहित्य जगत में जहाँ लोग अपनी पहचान बनाने की जुगत में दिन रात लगे रहते हैं, वहां मेरे जैसे नवोदित लेखक को अपना क्या परिचय देना चाहिए! बेहतर है मेरी कलम ही ये काम करे।

 

तो आप मुझे इस पुस्तक के माध्यम से पढ़े, सुने और जाने यही मेरी अभिलाषा है।

 

मिट्टी भी लिखती हैपढ़ सको तो पढ़ो

अपनी मिट्टी का देखोलिखा हुआ हूँ मैं।

धन्यवाद

Books by Rahul singh Gautam
Other author
Do NOT follow this link or you will be banned from the site!
Publish Book Now
close slider








Note: This question makes sure that you are not a robot.